August 9, 2022

गिरता रुपया बढ़ाएगा रोजगार संकट, फिर लौटने लगा छंटनी का दौर, नौकरी गंवाने का सता रहा डर


गिरता रुपया बढ़ाएगा रोजगार संकट, फिर लौटने लगा छंटनी का दौर, नौकरी गंवाने का सता रहा डर
नई दिल्ली । डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट कारोबारियों के साथ रोजगार के मोर्चे पर भी मुश्किलें बढ़ानी शुरू कर दी है। विदेशी निवेशकों की लगातार निकासी के बीच गुरुवार को रुपया 10 पैसे की गिरावट के साथ 77.72 प्रति डॉलर (अस्थायी) के सर्वकालिक निचले स्तर पर बंद हुआ। रुपये की कमजोरी से पडऩे वाले असर को देखते हुए रत्न आभूषण क्षेत्र के साथ स्टार्टअप ने छंटनी की शुरुआत कर दी है। आशंका जताई जा रही है कि आने वाले समय में इसका असर कपड़ा और अन्य क्षेत्रों पर भी हो सकता है।
अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया डॉलर के मुकाबले 77.72 पर कमजोर खुला। कारोबार के अंत में रुपया 77.72 पर बंद हुआ, जो पिछले बंद भाव के मुकाबले 10 पैसे की गिरावट को दर्शाता है। दिन में कारोबार के दौरान रुपया 77.76 के निचले स्तर तक गया। इसने 77.63 के उच्चस्तर को भी छुआ। बुधवार को रुपया 18 पैसे की गिरावट के साथ 77.62 प्रति डॉलर के स्तर पर बंद हुआ था। इक्रा की प्रमुख अर्थशास्त्री अदिति नायर का कहना है कि डॉलर के मुकाबले रुपया 79 के स्तर तक पहुंच सकता है। ऐसी स्थिति में हालात और खराब हो सकते हैं।
सूरत में हीरा तराशने से जुड़ी कई कंपनियों ने 2.5 लाख कारीगरों को छुट्टी पर भेज दिया है। कंपनियों का कहना है कि वह रूस की कंपनी अलरोसा से कच्चा हीरा आयात करते हैं और फिर इसे तराश कर निर्यात करते हैं। अमेरिका ने अलरोसा पर प्रतिबंध लगा दिया है। जबकि दुनिया भर के हीरा आयात में उसकी 30 फीसदी हिस्सेदारी है। ऐसे में कंपनियों का कहना है कि उनके पास फिलहाल काम बंद करने के अलावा अन्य कोई विकल्प नहीं है।
नौकरी गंवाने का सता रहा डर
सूरत के हीरा कारोबार में करीब 15 लाख लोगों को रोजगार मिला हुआ है जो इस क्षेत्र में कुल रोजगार का करीब एक तिहाई है। कर्मचारी संगठनों का कहना है कि छुट्टी एक बहाना है क्योंकि इस दौरान कोई भी भुगतान नहीं होगा। साथ ही आने वाले समय में कभी भी नौकरी से निकालने का फरमान जारी हो सकता है। रत्न आभूषण एवं निर्यात संवर्द्धन परिषद के उपाध्यक्ष विपुल शाह का का कहना है कि हीरा तराशने का काम 100 फीसदी आयात पर निर्भर है। ऐसे में इसमें किसी भी तरह की रुकावट रोजगार का संकट खड़ा सकता है।
रुपया कैसे बिगाड़ेगा रत्न-आभूषण क्षेत्र का खेल
भारत रत्न आभूषण का सबसे बड़ा आयातक और निर्यातक है। यही वजह है कि डॉलर के मुकाबले रुपये में कमजोरी इस क्षेत्र के लिए सबसे बड़ी चुनौती है। देश की कंपनियां पहले बिना तराशे रत्न-आभूषण का आयात करती हैं। यह डॉलर में होता है। डॉलर महंगा होने पर कारोबारियों को ज्यादा राशि खर्च करनी पड़ती है। वहीं डॉलर मजबूत होने पर निर्यातकों को लाभ तभी होता है जब बाजार में मांग होती है। जबकि मौजूदा समय में मांग भी घटी हुई है।
स्टार्टअप ने भी शुरू की छंटनी
पिछले कुछ वर्षों में जमकर रोजगार देने वाले स्टार्टअप भी अब छंटने करने लगे हैं। वेदांतू ने केवल मई में अब तक 600 से ज्यादा लोगों को नौकरी से निकाल चुका है। वहीं कार्स24 ने भी 600 लोगों की छंटनी का ऐलान किया है। एक आकलन के मुताबिक इस क्षेत्र में पांच हजार लोगों की छंटनी होने की आशंका है। विशेषज्ञों का कहना है कि स्टार्टअप में पैसे का फ्लो कम होने लगा है। 100 में से केवल 23 यूनिकार्न ही फायदे में हैं। ऐसे में निवेशक पैसे के सार्थक उपयोग का दबाव बना रहे हैं।
ब्याज दरों के बढऩे से रोजगार सृजन पर लगाम
दुनियाभर के केंद्रीय बैंकों के ब्याज बढ़ाने के बाद आरबीआई को भी दरें बढ़ाने के लिए मजबूर होना पड़ा है। विशेषज्ञों का कहना है कि आरबीआई ऐसा नहीं करता तो विदेशी निवेशकों द्वारा डॉलर की निकासी और तेज हो जाता जिससे रुपया और कमजोर जाता। लेकिन इससे कर्ज महंगा हो रहा है। इससे एमएसएमई, रियल एस्टेट सेक्टर पर रोजगार सृजन पर लगाम लगाने का दबाब बढ़ गया है। विशेषज्ञों का कहना है कि महंगाई रोकने के उपायों से अर्थव्यस्था का चक्का रुकेगा तो रोजगार कैसे पैदा होंगे।

महंगाई की आग फूंक रही कमाई, नहाने से लेकर खाने तक का सामान हुआ महंगा
नई दिल्ली ,20 मई । लोगों को अब रोजमर्रा की वस्तुओं के लिए ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी। देश में दैनिक उपभोग की सबसे आवश्यक वस्तुओं में शामिल नहाने, कपड़ा धोने का साबुन, टूथ पेस्ट और नूडल्स की कीमतों भी इजाफा हुआ है।
हिन्दुस्तान यूनिलीवर ने फरवरी के मुकाबले अपने उत्पाद नहाने के साबुन पीयर्स के कीमतों में 9 फीसदी जबकि फेस वाश में 3-4 फीसदी की बढ़ोतरी की है। वहीं रिन डिटर्जेंट बार की कीमत में 5-13 फीसदी जबकि डिटर्जेंट पाउडर 2-8 फीसदी महंगा हो गया है।
आईटीसी ने फियामा साबुन के दाम को 11 फीसदी तक बढ़ा दिया है। सिन्थाल साबुन की कीमत 5-24 फीसदी बढ़ा दी है। पतंजलि ने भी साबुन की कीमतों में इजाफा किया है।
टूथपेस्ट की कीमत भी बढ़ी : कोलगेट टूथपेस्ट की कीमतों में 2-18 फीसदी और डाबर के क्लोजअप, बबूल की कीमतों में 4-9 फीसदी का इजाफा हुआ है। चीनी की कीमतों में लगभग 1 फीसदी, गेहूं में 4 फीसदी वहीं जौ की कीमतों में लगभग 21 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।
रसोई गैस की कीमत डेढ़ साल में डेढ़ गुना बढ़ी
देश में डेढ़ साल के भीतर घरेलू रसोई गैस की कीमत में डेढ़ गुना तक का इजाफा हुआ। दिसंबर 2020 में दिल्ली में रसोई गैस की कीमत 644 रुपये थी, जो अब बढक़र 1003 रुपये हो गई है। 18 महीने में 359 रुपये यानी 55 फीसदी दाम बढ़े हैं। गुरुवार को 3.50 रुपये की बढ़ोतरी के साथ दिल्ली-मुंबई में सिलेंडर 1000 रुपये से अधिक का हो गया है।
तेल, मसालों की बढ़ती कीमतों ने बिगाड़ा बजट
घरेलू गैस के बाद अब खाद्य तेल और मसालों की कीमतों ने रसोई का बजट बिगाड़ दिया है। भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के महामंत्री हेमंत गुप्ता का कहना है कि भारत में सालाना 225 लाख टन खाद्य तेल की खपत होती है, जिसमें से 150 लाख टन आयात होता है।
खाद्य तेल के दाम भी बढ़े
वैश्विक आपूर्ति शृंखला में अवरोध और इंडोनेशिया द्वारा पाम आयल पर प्रतिबंध के बाद देश में इसकी कीमतों में तेजी से उछाल आया है। सफोला तेल की कीमतों में 10-22 फीसदी वहीं अडानी फार्च्यून के तेल की कीमतों में 16 फीसदी का इजाफा हुआ है।
मसालों के दाम
2021  2022
लाल मिर्च 140 240
जीरा 160 250
अजवायन 170 260
घनिया 70-100 180
सौंफ 200 250
काली मिर्च 480 600