February 5, 2023

9 रुपये से 3500 के पार पहुंचा यह शेयर, 1 लाख रुपये के बने 4 करोड़ रुपये

हरे निशान के साथ खुला शेयर बाजार
मुंबई  शेयर बाजार ने बुधवार को तेजी के साथ कारोबार की शुरुआत की। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का सेंसेक्स 201.46 अंकों की बढ़त के साथ 54,254.07 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 71.2 अंकों की बढ़त के साथ 16,196.35 अंक पर खुला।
हरे निशान के साथ खुले शेयर बाजार में मिडकैप और स्मॉलकैप में भी बढ़ोतरी देखी गयी। बीएसई का मिडकैप 87.58 अंक बढक़र 22,347.13 अंक पर और स्मॉलकैप 75.63 अंकों की तेजी के साथ 25,959.48 अंकों पर खुला।
इस दौरान बीएसई की प्रमुख तीस कंपनियों में से 21 कंपनियां बढ़त और 09 कंपनियां दबाव के साथ कारोबार करती हुयी दिखी।
बीएसई का तीस शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स मंगलवार को 236 अंक गिरकर 54052.61 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 89.55 अंक उतरकर 16125.15 अंक पर रहा था।
00

)मोदी सरकार के इस फैसले के बाद अडानी विल्मर और रुचि सोया के शेयरों में लग गया लोअर सर्किट
नई दिल्ली सरकार के एक फैसले से अडानी विल्मर और रुचि सोया के शेयरों में जबरदस्त गिरावट आई है। अडानी विल्मर और रुचि सोया के शेयरों में जमकर बिकवाली हो रही है। आज बुधवार को बीएसई पर गौतम अडानी की खाद्य तेल कंपनी अडानी विल्मर के शेयर लोअर सर्किट में फंस गया। वहीं, रुचि सोया के शेयरों में भी लोअर सर्किट लग गया है। दरअसल, इन शेयरों में गिरावट के पीछे सरकार का एक बड़ा फैसला है। सरकार ने मंगलवार को कच्चे सोयाबीन तेल और कच्चे सूरजमुखी के तेल के आयात पर कस्टम ड्यूटी, एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपेमेंट सेस शून्य करने का ऐलान किया है। यानी 20 लाख टन तक इन कच्चे तेलों के आयात पर ये टैक्स नहीं देने होंगे। ऐसे में आने वाले दिनों में खाने के तेल सस्ता होगा। यही वजह है कि खाद्य तेल कंपनियों के शेयरों में गिरावट देखी जा रही है।
अडानी विल्मर के शेयर आज बीएसई पर 5त्न तक की गिरावट के साथ 664.95 रुपये पर कारोबार कर रहे हैं। कंपनी के शेयर में लोअर सर्किट लग गया है। वहीं, दूसरी तरफ रुचि सोया के शेयरों में भी लोअर सर्किट है। यह शेयर बीएसई पर 5त्न गिरकर 1045.45 रुपये पर कारोबार कर रहे हैं।
00

)सोना हुआ सस्ता, चांदी महंगी
नई दिल्ली । सर्राफा बाजारों में आज यानी मंगलवार को सोने-चांदी के भाव में मामूली बदलाव देखने को मिल रहा है।   इंडिया बुलियंस एसोसिएशन द्वारा जारी हाजिर रेट के  मुताबिक आज सर्राफा बाजारों में  चांदी मंगलवार के बंद भाव के मुकाबले महज 46 रुपये महंगी होकर 61757 रुपये प्रति किलो के रेट पर खुली तो वहीं,  24 कैरेट शुद्ध सोना 75  रुपये प्रति 10 ग्राम सस्ता होकर 51217 रुपये के रेट से खुला।
आज  24 कैरेट सोना 3 फीसद के साथ 52753 रुपये प्रति 10 ग्राम पड़ रहा है। वहीं, त्रस्ञ्ज जोडऩे के बाद चांदी की कीमत 63609 रुपये प्रति किलो हो गई है।  इसमें ज्वैलर का 10 से 15 फीसद मुनाफा अलग से है। यानी 10 ग्राम प्योर गोल्ड आपको 10 फीसद मुनाफा लेकर ज्वैलर करीब 58000 रुपये में देगा। वहीं, अब सोना अपने ऑल टाइम हाई 56200 रुपये से केवल 4909 रुपये प्रति 10 ग्राम  सस्ता रह गया है। जबकि, चांदी दो साल पहले के अपने उच्चतम रेट से 14243  रुपये प्रति किलो सस्ती है।
18 कैरेट गोल्ड की ये है कीमत
सोने से बने जेवरों में सबसे अधिक उपयोग होने वाले 18 कैरेट गोल्ड की कीमत अब 38413 रुपये प्रति 10 ग्राम है। यह 3 फीसद त्रस्ञ्ज के साथ  39565 रुपये प्रति 10 ग्राम का पड़ेगा। वहीं, अब 14 कैरेट सोने का भाव 29962 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया है। त्रस्ञ्ज के साथ यह 30860 रुपये प्रति 10 ग्राम पड़ेगा।
23 कैरेट गोल्ड का भाव
अगर 23 कैरेट गोल्ड की बात करें तो आज यह 51012 रुपये प्रति 10 ग्राम की दर से खुला। इस पर भी 3 फीसद त्रस्ञ्ज अलग से लगेगा यानी आपको मिलेगा 52542 रुपये प्रति 10 ग्राम के रेट से, जबकि इस पर ज्वैलरी मेकिंग चार्ज और ज्वैलर का मुनाफा अलग से है। अगर इसे भी जोड़ लिया जाए तो इसकी कीमत करीब 58000 रुपये पहुंच जाएगी।
वहीं,  22 कैरेट सोने का भाव  46915 रुपये प्रति 10 ग्राम पर  खुला। 3 फीसद त्रस्ञ्ज के साथ यह 48322 रुपये का पड़ेगा। इससे बने जेवरों पर भी  मेकिंग चार्ज और ज्वैलर्स का मुनाफा अलग से जोडऩे पर करीब 53700 रुपये का पड़ेगा।

)सरकार ने हिन्दूस्तान जिंक में हिस्सेदारी बेचने को दी मंजूरी, 300 रुपये के पार गया शेयर भाव
नई दिल्ली । केंद्र सरकार ने हिदूंस्तान जिंक में अपनी समूची हिस्सेदारी बेचने को मंजूरी दे दी है। इस खबर के बाद कंपनी का शेयर रॉकेट की तरह बढ़ा और इसका भाव 300 रुपये के पार पहुंच गया। बुधवार के कारोबार में शेयर का भाव 6 फीसदी से ज्यादा तेजी के साथ 315 रुपये तक के स्तर तक गया। वहीं, कंपनी का मार्केट कैपिटल 1 लाख 35 हजार करोड़ रुपये तक गया है। आपको बता दें कि हिंदूस्तान जिंक में सरकार की करीब 37,000 करोड़ रुपये की 29.54 फीसदी हिस्सेदारी है। आज की स्थिति में इस हिस्सेदारी का मूल्य 39,385.66 करोड़ रुपये है। हिन्दूस्तान जिंक एक बहुसंख्यक सरकारी स्वामित्व वाली कंपनी थी।
हालांकि, सरकार ने 2002 में फर्म में 26 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच दी थी, जिसे वेदांत समूह ने खरीदा था। समूह ने बाद में कंपनी में अपनी हिस्सेदारी 64.92 प्रतिशत तक ले जाने के लिए और हिस्सेदारी हासिल कर ली। अब कंपनी पर सरकार का स्वामित्व नहीं रह गया है।
00

)9 रुपये से 3500 के पार पहुंचा यह शेयर, 1 लाख रुपये के बने 4 करोड़ रुपये
नई दिल्ली । एक फार्मा कंपनी के शेयरों ने जबरदस्त रिटर्न दिया है। कंपनी के शेयरों ने 40,000 पर्सेंट के करीब रिटर्न निवेशकों को दिया है। यह कंपनी डिविस लैबोरेट्रीज है। डिविस लैब्स एक्टिव फार्मास्युटिकल्स इंग्रेडिएंट्स बनाती है। कंपनी के शेयर पिछले कुछ साल में 9 रुपये से बढक़र 3500 रुपये के पार पहुंच गए हैं। डिविस लैब्स के शेयरों का 52 हफ्ते का हाई-लेवल 5,425.10 रुपये है।
डिविस लैबोरेट्रीज के शेयर 13 मार्च 2003 को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में 9.04 रुपये के स्तर पर थे। कंपनी के शेयर 25 मई 2022 को बीएसई में 3,590.05 रुपये के स्तर पर ट्रेड कर रहे हैं। इस पीरियड में कंपनी के शेयरों ने निवेशकों को 39,200 पर्सेंट के करीब रिटर्न दिया है। अगर किसी व्यक्ति ने 13 मार्च 2003 को कंपनी के शेयरों में 1 लाख रुपये लगाए होते और अपने निवेश को बनाए रखा होता तो मौजूदा समय में यह पैसा 3.97 करोड़ रुपये होता।
डिविस लैबोरेट्रीज के शेयर 25 मई 2012 को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में 474.48 रुपये के स्तर पर थे। कंपनी के शेयर 25 मई 2022 को बीएसई में 3,590.05 रुपये के स्तर पर ट्रेड कर रहे हैं। अगर किसी निवेशक ने 10 साल पहले कंपनी के शेयरों में 1 लाख रुपये लगाए होते और अपने निवेश को बनाए रखा होता तो मौजूदा समय में यह पैसा 7.56 लाख रुपये होता। कंपनी के शेयरों ने पिछले 5 साल में निवेशकों को 550 फीसदी के करीब रिटर्न दिया है। कंपनी के शेयरों का 52 हफ्ते का लो-लेवल 3,540.35 रुपये है। बीएसई में कंपनी का मार्केट कैप करीब 93,186 करोड़ रुपये है।