May 24, 2024

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को खालिस्तान के समर्थन में धमकी


 देहरादून।  प्रतिबंधित संगठन सिख फॉर जस्टिस के मुखिया गुरपतवंत सिंह पन्नू ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को धमकी दी गई है। कहा गया कि यदि उत्तराखंड में उनके संगठन से जुड़े लोगों पर केस हुए तो इसके लिए मुख्यमंत्री जिम्मेदार होंगे। रामनगर में होने वाली जी-20 बैठक को लेकर भी धमकी दी है।
उत्तराखंड में सैकड़ों फोन नंबरों पर रिकॉर्डेड संदेश के जरिए इस तरह की धमकी दी गई। इसमें पन्नू ने रामनगर को खालिस्तान का हिस्सा बताते हुए बैठक के दौरान खालिस्तान के समर्थन में झंडे लगाने की बात कही। डीजीपी अशोक कुमार ने इसकी जांच के निर्देश जारी किए हैं। इससे पहले अमृतसर में हुई जी-20 की बैठक से पहले भी इस तरह के कॉल आए थे।
रामनगर में 28 से 30 मार्च जी20 की बैठक तय है। इस बीच रविवार को पन्नू की धमकी भरे रिकॉर्डेड कॉल से एकाएक हलचल शुरू हो गई। शाम के वक्त लोगों के पास विभिन्न भारतीय नंबरों से कॉल आनी शुरू हुई। इसमें पन्नू धमकी भरे अंदाज में पहले मेहमानों को बोल रहा है। संदेश में कहा गया है, ह्यरामनगर भारत का हिस्सा नहीं बल्कि खालिस्तान का हिस्सा है। सिख फॉर जस्टिस रेलवे स्टेशन एयरपोर्ट व बैठक के दौरान खालिस्तान के समर्थन में झंडे लगाएगा।ह्ण  डीजीपी अशोक कुमार ने देर रात एसटीएफ को जांच के निर्देश दिए। एसटीएफ कई नंबर ट्रेस कर रही है।
20 देशों के सौ मेहमान कल पहुंचेंगे रामनगर
रामनगर में होने जा रहे जी-20 सम्मेलन को मंगलवार की देर शाम तक बीस देशों के करीब 100 प्रतिनिधि (विशेषज्ञ)ढिकुली के ताज रिजॉर्ट पहुंच जाएंगे। प्रतिनिधियों को पंतनगर से ढिकुली तक लाए जाने वाले रूटों को जीरो जोन बनाया गया है। इन मेहमानों की सुरक्षा में यूएसनगर में 15 सौ और रामनगर में एक हजार पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। इस क्रम में पंतनगर एयरपोर्ट से रामनगर के क्षेत्र को छह जोन-15 सेक्टर में बांटा है।  
ढिकुली के ताज रिजॉर्ट में 28, 29 व 30 मार्च को बीस देशों के विशेषज्ञ पर्यावरण, शिक्षा, स्वास्थ्य समेत कई मुद्दों पर मंथन करेंगे। इस सम्मेलन में अलग-अलग देशों से लगभग 70 मेहमान आने की संभावना है, जबकि भारत से 30 वैज्ञानिकों के भी सम्मेलन में शामिल होने की बात कही जा रही है। आईजी कुमाऊं नीलेश आनंद भरणे ने बताया कि मेहमानों के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।
जी-20 के रूट को सात जोन,15 सेक्टर में बांटा: रामनगर में होने वाली जी-20 बैठक को लेकर आने वाले मेहमानों की सुरक्षा व अन्य व्यवस्थाओं को प्रशासन ने अंतिम रूप देते हुए पुलिस लाइन में अधिकारियों व कर्मचारियों को ब्रीफिंग की। ब्रीफिंग में एडीजे लॉ एंड आॅर्डर वी मुरुगेशन, आईजी डॉ. नीलेश आनंद भरणे, सीडीओ विशाल मिश्रा समेत अन्य अधिकारियों ने कार्मिकों को जरूरी दिशा निर्देश दिए।
विदेशी मेहमानों की सुरक्षा के लिए 1500 से अधिक पुलिस अफसरों व कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। साथ ही जिले में मेहमानों के लिए 60 किलोमीटर का रूट तय किया गया है। इस दौरान निर्धारित रूट को सात जोन में बांटा गया है। इसमें छह सामान्य जोन, जबकि एक सुपर जोन और 15 सेक्टर शामिल है।
वहीं मेहमानों की सुरक्षा के लिए अधिकारी-कर्मचारियों को अलर्ट मोड में रहने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही खुफिया विभाग को भी अलर्ट कर दिया गया है। रामनगर में 28, 29 और 30 मार्च को जी-20 की बैठक होने जा रही है। बताया जा रहा है कि जी-20 को लेकर 70 प्रतिनिधि प्लेन से पंतनगर आएंगे। इनमें 40 विदेशी मेहमान और 30 भारतीय शामिल होंगे।
इसके लिए प्रशासन ने प्रस्तावित मार्ग का सौंदर्यीकरण और मेहमानों की सुरक्षा व्यवस्था को अंतिम रूप देने के लिए ब्रीफिंग की। रविवार को पुलिस लाइन में हुई ब्रीफिंग में 1500 पुलिस अफसरों व कर्मचारियों को जी-20 की ड्यूटी को लेकर तैनात किया गया। सीडीओ विशाल मिश्रा ने बताया कि सुरक्षा और प्रशासनिक व्यवस्थाएं चुस्त-दुरुस्त करने के खास इंतजाम किए गए हैं। उन्होंने बताया कि जिले में विदेशी मेहमानों के लिए 60 किलोमीटर का रूट निर्धारित किया गया है। इसको अलग-अलग सात जोनों में बांटा गया है। इसमें छह सामान्य, जबकि एक सुपर जोन शामिल है।
जी-20 में शामिल देश
अर्जेंटीना, आॅस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, कोरिया गणराज्य, मैक्सिको, रूस, सउदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, यूनाइटेड किंगडम, अमेरिका, यूरोपीय संघ
इन्हें भी किया है आमंत्रित
बांग्लादेश, मिस्र, मॉरीशस, नीदरलैंड, नाइजीरिया, ओमान, सिंगापुर, स्पेन, संयुक्त अरब अमीरात