June 15, 2024

उत्तराखंड सरकार व उसका पशुपालन विभाग लाचार!!! 16 लाख वैक्सीन के बाद भी लंपी बीमारी बेकाबू


देहरादून। उत्तराखंड में इस साल 16 लाख पशुओं को वैक्सीन लगने के बाद भी लंपी वायरस का प्रकोप कम नहीं हो रही है। हालात ये है कि अभी तक प्रदेश में करीब आठ सौ पशुओं की मौत हो चुकी है। रोजाना औसतन चार मवेशी बीमारी से दम तोड़ रहे हैं।
दो वर्षों से उत्तराखंड में लंपी वायरस का संक्रमण फैला हुआ है। इसबार मैदानी इलाकों से ज्यादा पर्वतीय क्षेत्रों में बीमारी का संक्रमण ज्यादा है। पशुपालन विभाग के अनुसार वर्तमान में प्रदेश में 46 हजार से अधिक पशु बीमारी से संक्रमित हैं। इसमें नैनीताल जिले में सर्वाधिक करीब 10 हजार, अल्मोड़ा में आठ हजार, बागेश्वर और चंपावत में पांच-पांच हजार, चमोली में 35 सौ, नैनीताल में 33 सौ, रुद्रप्रयाग में पांच हजार, टिहरी में छह हजार, उत्तरकाशी में एक हजार पशु संक्रमित हैं। पशु चिकित्साधिकारी डा. कंचन पांगती ने बताया कि विभाग की ओर से रोजाना करीब सात हजार पशुओं को वैक्सीन लगाई जा रही है। अभी तक प्रदेश में 16 लाख से अधिक पशुओं का वैक्सिनेशन हो चुका है। उन्होंने बताया कि विभाग की ओर से पशुपालकों को जागरूकत किया जा रहा है। साथ ही उन्हें बीमारी से रोकथाम के लिए दवा वितरित की जा रही है। आने वाले दिनों में संक्रमण कम होने की उम्मीद है।