August 9, 2022

राजस्थान से चार बार राज्यसभा पहुंचे रामनिवास मिर्धा और जसवंत सिंह


जयपुर। राजस्थान में अब तक राज्यसभा के लिए हुए चुनाव में पूर्व केन्द्रीय मंत्री रामनिवास मिर्धा एवं जसवंत सिंह सर्वाधिक चार बार राज्यसभा में प्रदेश का प्रतिनिधत्वि किया है। अब तक राज्यसभा पहुंचे सांसदों में कांग्रेस की शारदा भार्गव सहित आठ सांसद तीन बार जबकि केन्द्रीय मंत्री भूपेन्द्र यादव एवं भाजपा सांसद ओमप्रकाश माथुर सहित बीस सांसद दो बार और करीब सत्तर सांसद एक बार राजस्थान से निर्वाचित होकर राज्यसभा पहुंचने में सफल हुए हैं।
लोकसभा अध्यक्ष रहे मिर्धा कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में चार मई 1967 को उपचुनाव जीतकर पहली बार राज्यसभा पहुंचे। इसके बाद उन्होंने साल 1968 में दूसरी बार, 1974 में तीसरी बार और साल 1980 में चौथी बार राज्यसभा में राज्य का प्रतिनिधित्व किया। इसी तरह विदेश मंत्री रहे जसवंत सिंह भाजपा प्रत्याशी के रूप में पांच जुलाई 1980 को पहली बार राजस्थान से राज्यसभा के लिए चुने गए। इसके बाद वह 1986 में दूसरी बार राज्यसभ सांसद निर्वाचित हुए लेकिन 27 नवंबर 1989 को इस्तीफा दे दिया। इसके बाद वह साल 1998 में फिर राज्य से तीसरी बार और साल 2004 में चौथी बार सांसद बनकर प्रदेश का राज्यसभा में प्रतिनिधित्व किया।
ये प्रत्याशी तीन बार पहुंचे राज्यसभा
कांग्रेस की उम्मीदवार शारदा भार्गव साल 1952 को पहली बार, साल 1956 में दूसरी बार एवं साल 1963 में तीसरी बार राजस्थान से राज्यसभा पहुंची। इसके अलावा कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में कृष्ण कुमार बिड़ला साल 1984, 1990 एवं साल 1996, मोहम्मद उस्मान आरिफ साल 1970, 1976, एवं साल 1982, संतोष बागरोदिया साल 1986, 1998 एवं साल 2004 एवं नरेन्द्र बुड़ानिया साल 1986, 1998 एवं साल 2004 एवं भुवनेश चतुर्वेदी साल 1982,1988 एवं 1994 तथा रामदास अग्रवाल भाजपा के उम्मीदवार के रूप में साल 1990, 1996 एवं 2006 जबकि निर्दलीय उम्मीदवार के रुप में हरीशचंद माथुर साल 1952, 1967 एवं साल 1968 में राजस्थान से राज्यसभा के लिए निर्वाचित होकर प्रदेश का प्रतिनिधित्व किया।
राजस्थान से दो बाद राज्यसभा पहुंचने वाले सांसदों में केन्द्रीय मंत्री भूपेन्द्र यादव भाजपा उम्मीदवार के रूप में साल 2012 एवं साल 2018 में राजस्थान से राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए। इसी तरह भाजपा के ही ओम प्रकाश माथुर साल 2008 एवं 2016, भाजपा प्रत्याशी के रूप में पुलिस महानिदेशक रहे ज्ञान प्रकाश पिलानिया साल 2004 एवं 2008 और सुंदर सिंह भंडारी साल 1976 में भाजपा एवं साल 1966 में अन्य प्रत्याशी के रूप में राज्यसभा के लिए चुने गए।
ये प्रत्याशी भी पहुंचे राज्यसभा
कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में दो बार राज्यसभा पहुंचने वाले सांसदों में पूर्व मुख्यमंत्री जयनारायण व्यास साल साल 1957 एवं 1960, जगन्नाथ पहाड़िया साल 1965 एवं बरकतुल्ला खान साल 1952 एवं 1954 के अलावा चौधरी कुंभाराम आर्य साल 1960 एवं 1968, अबरार अहमद साल 1988 एवं 2002, सादिक अली साल 1958 एवं 1964, स्वामी केशवानंद 1952 एवं 1958, धुलेश्वर मीना 1980 एवं 1986, मूलचंद मीणा 1992 एवं 2000, बी एल पंवार 1985 एवं 1986, भीमराज साल 1978 एवं 1984, के एल श्रीमाली 1952 एवं 1956, विजय सिंह 1954 एवं 1960, अभिषेक मनु सिंघवी 2006 एवं 2012 तथा प्रभा ठाकुर 2002 एवं 2008 में प्रदेश से राज्यसभा पहुंची जबकि दलपत सिंह साल 1964 एवं 1966 में अन्य प्रत्याशी के रुप में राजस्थान का राज्यसभा में प्रतिनिधित्व किया। इसके अलावा राजस्थान से पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह वर्तमान में राज्यसभा में प्रतिनिधित्व कर रहे हैं जबकि उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू सहित अन्य कई हस्तियां राजस्थान से राज्यसभा पहुंचे हैं।