February 29, 2024

वॉर मेमोरियल में सेना के जवानों को लगा करंट, 1 की मौत; 3 घायल


 उत्तरकाशी । उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में शहीद पार्क ज्ञानसू में वॉर मेमोरियल में होने वाले श्रद्धांजलि कार्यक्रम की तैयारी कर रहे हर्षिल आमी में तैनात 11 वीं वटालियन जेकलाई के चार जवान अचानक कंरट की चपेट में आ गए। करंट के चपेट में आने से एक जवान की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि अन्य तीन जवान  गंभीर रूप से घायल हो गए।  
मौके पर मौजूद सेना के जवानों ने घायलों को अस्पताल पहुंचाया। जहां चिकित्सकों के अनुसार उनकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। जानकारी के अनुसार मंगलवार दोपहर से आर्मी की हर्षिल में तैनात 11वीं वटालियन जम्बू एंड काश्मीर लाइट इनफेंट्री (जेकलाई) की एक टीम बुधवार को शहीद पार्क ज्ञानसू में वॉर मेमोरियल में श्रद्धांजलि की तैयारी कर रही थी। सांय के समय सभी जवान टैंट को गाड रहे थे।
इसी दौरान अचानक तेज हवा के साथ आंधी तूफान आया और टेंट ऊपर की ओर उठ गया। इससे टेंट का पाईप हाईटेंशन से टकरा गया। जिसको पकड़े जवान करंट की चपेट में आा गए। इस घटना में राइफल मैन करन अजाद उम्र 25 वर्ष निवासी ग्राम चुकेरा, तहसील महानपुर, जिला कथुवा जंभू की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि इसी वटालियन के ही पवन कुमार पुत्र सजे सिंह, विशाल शर्मा पुत्र स्व.राजकुमार, तथा गणेश राज कुमार घायल हो गए। मौके पर मौजूद सेना के अन्य साथी सभी घायलों को अस्पताल ले आऐं।
जहां चिकित्सकों ने उन्हें उपचार के लिए भर्ती कर दिया। जिला अस्पताल के आपात्कालीन कक्ष में घायलों का उपचार करती चिकित्सक डा. निकिता ने बताया प्राथमिक उपचार के बाद सभी घायल खतरे से बाहर हैं। निगरानी के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं दूसरी ओर थाना कोतवाली के निरीक्षक दिनेश कुमार ने बताया कि मृतक का पंचनामा भर पीएम की कार्यवाही की जा रही है।
गंगोत्री विधायक ने जवानों को बंधाया ढंढास
मंगलवार को शहीद पार्क ज्ञानसू में करंट की चपेट में आये सेना के जवानों की सूचना मिलने के बाद गंगोत्री विधायक सुरेश चौहान जिला अस्पताल पहुंचे और सभी जवानों को ढढांस बंधाया। वहीं जिला व अस्पताल प्रशासन को  पीएम की कार्यवाही व एंबुलेंस मुहैया कराने के साथ ही हर संभव मदद करने के निर्देश दिए। इस मौके पर पूर्व सैनिक कल्याण समिति के मेजर आरएस जमनाल, देशराज बिष्ट, विक्रम सिंह रावत, विजयपाल मखलोगा, कन्हैया रमोला, पालिकाध्यक्ष रमेश सेमवाल, देवराज आदि मौजूद रहे।