July 24, 2024

बैजनाथ पुलिस ने पैंसे दुगना करने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह के दो अभियुक्त इन्दौर मध्यप्रदेश से किये गिरफ्तार

 

बागेश्वर (  आखरीआंख ) दिनांकः 30-05-2019 को वादी श्री दीप वर्मा पुत्र श्री ईश्वरी लाल वर्मा निवासी- ग्राम- स्याल्दे, टीट बाजार गरूड़ थाना- बैजनाथ द्वारा दिये गये प्रार्थना पत्र जिसमें ट्रेड प्राईम रिसर्च कन्सलटैन्ट कम्पनी के नाम पर व्यक्तियों द्वारा Online शेयर मार्केट में पैंसा लगाकर दुगना फायदा पहुंचाने की बात कही गयी। जिसके झांसे में आकर वादी द्वारा उनके बैंक खातों में 1,23,700/-(एक लाख तेईस हजार सात सौ)रूपये भेजे गये व सम्पर्क करने पर कोई सम्पर्क नहीं होने से वादी द्वारा अपने साथ हुई धोखाधड़ी के बारे में बताया गया। प्रार्थना पत्र के आधार पर तत्काल कार्यवाही करते हुए थाना बैजनाथ पुलिस द्वारा मु0अ0सं0- 20/19, धारा- 420/120B भा0द0वि0 बनाम् महेन्द्र गुप्ता व अन्य के नाम से अभियोग पंजीकृत किया गया। जिसकी विवेचना *उ0नि0 अविनाश मौर्य* के सुपुर्द की गयी। प्रकरण में त्वरित संज्ञान लेते हुए *श्री लोकेश्वर सिंह पुलिस अधीक्षक बागेश्वर द्वारा थाना बैजनाथ व टेक्निकल टीम को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए। श्री महेश चन्द्र जोशी पुलिस उपाधीक्षक बागेश्वर के निर्देशन में व श्री कैलाश सिंह बिष्ट थानाध्यक्ष बैजनाथ के नेतृत्व में* पुलिस टीम का गठन किया गया। टेक्निकल टीम द्वारा दी गयी लीड के आधार अभियुक्तगणों की तलाश हेतु पुलिस टीम भेजी गयी। पुलिस टीम के अथक प्रयासों द्वारा अभियोग पंजीकृत होने के 10 दिवस के भीतर ही अभियुक्त 1- संजय विजय वर्गीय पुत्र श्री मुरारी लाल विजय वर्गीय उम्र- 48 वर्ष निवासी- शंकरगंज मेन रोड इन्दौर, मध्यप्रदेश 2- अश्विन पुत्र योगेश उम्र-27 वर्ष निवासी- 16 स्नेह नगर इन्दौर, मध्य प्रदेश को दिनांकः 09-06-2019 को उनके निवास स्थान से गिरफ्तार कर मा0 न्यायालय सी0जे0एम0 इन्दौर में ट्रान्जिट रिमाण्ड लेकर आज दिनांकः 13-06-2019 को मा0 न्यायालय बागेश्वर में पेश किया जा रहा है।

अपराध करने का तरीका
अभियुक्त अश्विन पुत्र योगेश जो एम0बी0ए0 की डिग्री धारक है। जिसके द्वारा ट्रेड प्राईम रिसर्च कन्सलटैन्ट कम्पनी से काम छोड़ने के बाद अपने सहयोगी के साथ मिलकर ट्रेड प्राईम रिसर्च कन्सलटैन्ट कम्पनी के नाम पर फर्जी कम्पनी बनाकर लोगों से फोन के माध्यम से सम्पर्क कर उनको आॅनलाईन शेयर माकेर्ट में पैंसा लगाकर दुगना फायदा पहुंचाने के बारे में बाताया जाता था। इससे जो व्यक्ति इनके झांसे में आ जाते थे, उनसे पैंसा अपने खातों(अकाउन्ट) में डलवा लेते थे। धोखाधड़ी करने के बाद ये फोन नम्बर व खातों को बन्द कर देते थे। ये लोग इसी प्रकार लोगों से अलग-अलग मोबाईल फोनों से सम्पर्क कर अपना असली नाम न बताकर अलग-अलग नाम बताकर लोगों से धोखाधड़ी करते थे।

गिरफ्तार करने वाली टीम  में थानाध्यक्ष श्री कैलाश सिंह बिष्ट (थाना बैजनाथ) उ0नि0 ना0पु0 अविनाश मौर्य (थाना बैजनाथ) का0 ना0पु0 गणेश राम (थाना बैजनाथ)  का0 ना0पु0 कमल चन्द्र (थाना बैजनाथ) का0 ना0पु0 हेमचन्द्र मठपाल (एस0ओ0जी0/साईबर सैल) मौजुड़ रहे ।