June 15, 2024

सभी बैंक व विभाग व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर किसानों के साथ करे सामंजस्य स्थापित:प्रभारी जिलाधिकारी

 

बागेश्वर ( आखरीआंख समाचार ) कलैक्टे्रट सभागार में आयोजित जिला स्तरीय पुनरीक्षण (डी0एल0आर0सी0) सह जिला सलाहकार एवं समन्वय समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रभारी जिलाधिकारी नरेन्द्र सिंह भण्डारी ने संचालित योजनाओं की त्रैमासिक प्रगति की समीक्षा की। ऋण जमा अनुपात की धीमी प्रगति पर प्रभारी जिलाधिकारी ने बैकर्स को विभागीय अधिकारियों के साथ सामंजस्य बनाकर ऋण जमा अनुपात को बढाने के निर्देश दिये। जिन बैंकों द्वारा निर्धारित लक्ष्य से कम प्रगति दी है वे अगले त्रैमास में शतप्रतिशत उपलब्धि हासिल करना सुनिश्चित करें। धीमी प्रगति वाले बैंकर्स को ऋण जमा अनुपात में तेजी लाने हेतु पात्र लाभार्थियों को योजनाओं का लाभ पहुॅंचाने और संदेहात्मक मामलों पर गम्भीरता से निर्णय लेने के निर्देश दिये।
प्रभारी जिलाधिकारी द्वारा किसान के्रडिट कार्ड निर्माण हेतु हर न्याय पंचायत में कैम्प लगाने के लिये कहा। उन्होने कृषि विभाग लक्ष्य बनाकर बैको के साथ सामन्जयस स्थापित करते हुए कार्य करने के निर्देश दिये तथा फसली ऋण क्षेत्र में बैकर्स को निर्धारित लक्ष्य को हासिल करने के निर्देश दिये। कृषि मियादी ऋण की समीक्षा करते हुए शतप्रतिशत उपलब्धि प्राप्त करने के लिए सभी बैंकों को विशेष प्रयास किये जाने पर जोर देते हुए इस क्षेत्र में उपलब्धि बढाने हेतु चालू वित्तीय बर्ष के लिए कार्ययोजना तैयार करने को कहा।
प्रभारी जिलाधिकारी ने ऋण जमा अनुपात बढाने हेतु विभागों और बैंकों के बीच अधिक से अधिक तालमेल स्थापित करने की आवश्यकता बताते हुए विभागों को अधिक से अधिक ऋण प्रार्थना पत्र समय से बैंकों को प्रेषित करने के निर्देश दिये। बैंक बकाया वसूली पर विचार विमर्श करते हुए सभी शाखा प्रबन्धकों को लंबित वसूली प्रमाण पत्रों का तहसील से मिलान कर अग्रणी बैंक अधिकारी को सूचित करने को कहा। सभी बैकर्स वर्ष 2022 तक किसानों की आय दुगुनी करने के लिए पशुपालन, कृषि, उद्यान एवं उद्योग आदि के लिए आवेदको को औपचारिकताऐं पूर्ण कर ऋण मुहैया करायें तथा निरन्तर ग्रामीण क्षेत्रो में शिविर लगा कर किसानों को प्रेरित करें तथा कहा कि कोर्इ योजना तभी सफल होती है जब उसे समय पर संचालित किया जाय। और न्याय पंचायत प्रभारियों को निरन्तर कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी ग्रामीण स्तर तक पहुचायें तथा सभी बैंकर्स व विभागीय अधिकारी को आपसी समन्वय के लिए व्हट्सएप ग्रुप बनाने के निर्देश दिए। प्रभारी जिलाधिकारी ने ऋण वसूली की समीक्षा करते हुए बैकों, सम्बन्धित विभाग तथा राजस्व विभाग को बैठक आहूत कर वसूली में तेजी लाने के निर्देश दिये। साथ ही प्रभारी जिलाधिकारी ने शिक्षा ऋण अधिक से अधिक प्रदान करने को कहा।
अग्रणी बैक अधिकारी रुद्र सिंह रावत ने ऋणजमा अनुपात बढाने हेतु विभागों और बैंकों के बीच अधिक तारतम्य स्थापित करने की आवश्यकता बतार्इ। सभी विभागों से अधिक से अधिक ऋण प्रार्थना पत्र समय से बैंकों को प्रेषित करने को कहा। ऋण जमा अनुपात बढ़ाने के लिये विभिन्न रेखीय विभागो जिला उद्योग, कृषि, बागवानी, पर्यटन, समाज कल्याण आदि विभागो से चर्चा की गयी। कृषि मियादी ऋण की प्रगति के सम्बन्ध में जानकारी देते हुए कहा कि इस त्रैमास में रू0 33.12 करोड लक्ष्य के सापेक्ष रू0 10.59 करोड की उपलब्धि हासिल हुर्इ है जो लक्ष्य का 31.99 प्रतिशत है, इस क्षेत्र में शतप्रतिशत उपलब्धि प्राप्त करने के लिए सभी बैंकों द्वारा विशेष प्रयास किये जाने की आवश्यकता पर जोर दिया। लद्यु उद्योग एवं सेवा व्यवसाय क्षेत्र के बारे जानकारी देते हुए कहा कि इस क्षेत्र में रू0 102.41 करोड लक्ष्य के सापेक्ष रू0 60.16 करोड की उपलब्धि रही है जो लक्ष्य का 58.74 प्रतिशत है। केन्द्र एवं राज्य प्रायोजित कार्यक्रम की समीक्षा के सम्बन्ध में प्रभारी जिलाधिकारी ने रेखीय विभागों को प्राप्त आवेदन पत्रों को समय से बैंकों को प्रेषित करने के निर्देश दिये। उन्होंने बैंकर्स को आवेदन पत्रों में कमी पाये जाने पर समय से कारण सहित सम्बन्धित विभाग को उपलब्ध कराने के निर्देश दिये, ताकि कमियों को पूरा कर पात्र लाभाथ्र्ाी को योजना का लाभ मिल सके, और अभ्यथ्र्ाीयो को अनावश्यक रुप से इधर उधर न दौड़ाया जाय।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी एस.एस.एस. पांगती, जिला विकास अधिकारी के.एन.तिवारी, लीड बैंक अधिकारी रूद्र सिंह रावत, मुख्य कृषि अधिकारी वी0पी0मौर्या, जिला उद्यान अधिकारी तेजपाल सिंह, परियोजना निदेशक शिल्पी पन्त, महाप्रबन्धक उद्योग बी.सी. पाठक, केनरा बैंक नन्द किशोर, उत्तराखण्ड ग्रामीण बैंक मनोज कुमार सिंह, शाखा प्रबन्धक बैंक आफ इण्डिया सचिन शर्मा, इलाहाबाद बैंक नरेन्द्र सिंह ग्वाल, भारतीय स्टेट बैंक निर्मल कुमार सहित प्रमुख शाखा प्रबन्धक तथा विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।