February 29, 2024

फ्री राशन पर उत्तराखंड में मई में गहरा सकता है संकट, निशुल्क गेहूं, चावल-चीनी को तरसेंगे लाभार्थी


देहरादून। उत्तराखंड में अगले महीने से फ्री राशन पर संकट गहरा सकता है। अगर ऐसा होता है तो राशन उपभोक्ताओं निशुल्क, गेहूं, चावल, चीनी पर मुसीबत हो सकती है। उत्तराखंड में करीब 23 लाख राशन कार्डधारक मई महीने में सरकारी राशन से वंचित रह सकते हैं। लाभांश समेत विभिन्न मांगों के लिए आंदोलनरत सरकारी सस्ता गल्ला विक्रेताओं ने अभी तक अगले माह का राशन गोदामों से नहीं उठाया है। उन्हें हर माह 23 से 30 तारीख के बीच अगले माह का राशन उठाना होता है। इसके बाद एक से 20 तारीख तक राशन वितरण किया जाता है। मई के राशन के लिए पौड़ी को छोड़ अधिकांश जिलों में डीलरों ने चालान जमा नहीं किए हैं। ऐसे में राशन के लिए लाखों परिवारों को परेशान होना पड़ सकता है।
नहीं उठाया राशन, ट्रांसपोर्टनगर में धरना
देहरादून। जिलेभर में नौ सौ से अधिक सरकारी राशन की दुकानें हैं। अभी तक किसी विक्रेता ने मई का राशन नहीं उठाया है। ऑल इंडिया फेयर प्राइज शॉप डीलर्स फेडरेशन के बैनर तले राशन विक्रेता ट्रांसपोर्टनगर में वरिष्ठ विपणन अधिकारी कार्यालय पर धरने पर बैठे हैं। मई में राशन वितरण न होने पर करीब 3.54 लाख कार्डधारक परेशान होंगे।
उधर, ऋषिकेश के शहरी-ग्रामीण क्षेत्रों में 138 विक्रेताओं ने मई का राशन नहीं उठाया है। जिला पूर्ति अधिकारी विवेक शाह ने बताया कि एनएफएसए के तहत राशन डीलरों को जनवरी से  मार्च तक के लाभांश का भुगतान हो चुका है। राशन डीलरों से बात की जा रही है।
सरकारी राशन की ज्यादातर दुकानें बंद
हरिद्वार। जिले में 604 राशन विक्रेता हैं। दुकानों पर राशन उपभोक्ता नहीं मिले। शहर में राशन की अधिकांश दुकानें सुबह के समय बंद मिलीं। विक्रेताओं ने तीन सूत्रीय मांगों का ज्ञापन डीएसओ मुकेश पाल को सौंपा था। लंबित मांगें पूरी नहीं होने पर विक्रेता राशन नहीं उठाने की बात कर रहे हैं। विक्रेताओं ने मई का राशन नहीं उठाया है।
बेमियादी हड़ताल पर चल रहे राशन डीलर
चमोली। चमोली जिले में भी सरकारी राशन विक्रेता मानदेय की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। डीलर संघ के अध्यक्ष दिनेश चंद्र जोशी ने बताया जब तक पर्वतीय डीलर संघ की मांग पूरी नहीं हो  जाती, हड़ताल जारी रहेगी। चमोली    में 950 सरकारी राशन विक्रेता हैं। हड़ताल के कारण वे राशन का अग्रिम उठान नहीं करेंगे।
अधिकांश डीलरों की दुकानों पर ताले
काशीपुर। शहर और ब्लॉक क्षेत्र में कुल 107 राशन डीलर हैं। लाभांश, रुके हुए कमीशन और मानदेय की मांग को लेकर राशन वितरकों ने आगामी एक मई से हड़ताल की चेतावनी दी है। इसके चलते कोटेदारों ने मई का कोटा उठाने के लिए अभी तक चालान जमा नहीं कराए हैं। मुख्य विपणन अधिकारी दिनेश कुमार ने बताया कि अभी किसी राशन डीलर ने माल का उठान नहीं किया है।
35 फीसदी विक्रेताओं ने ही उठाया राशन
नई टिहरी। जिले में राशन विक्रेता सोमवार से हड़ताल पर जा सकते हैं। यहां 1037 राशन विक्रेता हैं। जिला मुख्यालय वाले गोदाम से 32 राशन विक्रेता जुड़े हुए हैं। कुल गोदामों की संख्या 37 है। जिला मुख्यालय पर चालान लगाकर 12 राशन विक्रताओं (35 प्रतिशत) ने ही मई का राशन उठाया। बाकी विक्रेता अभी तक राशन दुकानों पर नहीं लाए हैं। उधर, नैनीताल में में एक भी राशन विक्रेता ने मई माह का राशन नहीं उठाया है, न ही राशन उठाने के लिए चालान जमा किए हैं।
विक्रेताओं ने नहीं लगाए चालान
अल्मोड़ा। जिलेभर में किसी भी सस्ता गल्ला विक्रेताओं ने मई का राशन नहीं उठाया है। जिलेभर में कुल 923 सल्ला गल्ला विक्रेता हैं। हजारों लोग हर महीने सरकारी राशन लेते हैं।
राशन को लेकर अभी से लोग परेशान
चंपावत। जिले में सरकारी राशन विक्रेताओं की कुल संख्या 344 है। ग्रामीण संजय राम, विनीत जोशी और कमला देवी ने बताया कि दिसंबर तक सरकार ने फ्री राशन देने की बात कही है। लेकिन, अभी तक इन केंद्रों में मई का राशन नहीं आ सका है, जिस कारण दिक्कत पैदा हो सकती है। जिले में किसी भी राशन विक्रेता ने मई माह का राशन नहीं उठाया है।

एनएफएसए के तहत 80 फीसदी तक लाभांश का भुगतान हो चुका है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत रुके हुए लाभांश का गतान भी शीघ्र कर दिया जाएगा। विभाग डीलरों की मांगों पर विचार कर रहा है। लिहाजा, राशन विक्रेताओं को राशन उठाना चाहिए।
-पीएस पांगती, अपर आयुक्त-खाद्य विभाग।

ये हैं मांगें
राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना का बचा हुआ लाभांश दिया जाए।
प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का पिछले सात माह का लाभांश/कमीशन शीघ्र मिले।
बाहरी राज्यों की तरह लाभांश के अतिरिक्त प्रतिमाह मानदेय दिया जाए।