June 15, 2024

काला धन खपाने गुलाबी नोटों को लोग ऐसे लगा रहे ठिकाने, ज्वैलर्स को हो रहा तगड़ा मुनाफा


मेरठ । मेरठ दो हजार रुपये का गुलाबी नोट बंद करने की तैयारी के बीच काला धन खपाने के लिए अब सोने-चांदी की जमकर खरीदारी की जा रही है। सराफा कारोबारी भी इस माहौल का फायदा उठा रहे हैं। हाल यह है कि सोने का वर्तमान दाम 62,500 रुपये तोला तक है, इसके बावजूद गुलाबी नोट पर 70,000 रुपये तोला के दाम पर सोने की खरीद की गई। हालांकि 500 रुपये के नोट पर सोने का भाव 62,500 रुपये का ही रहा।
रविवार को ही सराफा बाजार में करोड़ों रुपये का लेनदेन हुआ। ऐसी ही स्थिति चांदी के मामले में रही। चांदी का भाव 74,000 हजार रुपये किलो रहा, लेकिन गुलाबी नोट पर इसे 80,000 रुपये किलो के भाव से खरीदा जा रहा है।
बुलियन ट्रेडर्स एसोसिएशन के संरक्षक रवि प्रकाश अग्रवाल ने बताया कि सफेद धन वालों को तो कोई परेशानी नहीं है, वह बैंक में अपनी राशि जमा कर रहे हैं, लेकिन जिनके पास काला धन है, वही महंगे दाम पर सोने की खरीद कर रहे हैं। ऐसे लोगों का धन ही तेजी से सराफा बाजार तक पहुंच रहा है।
यूनाइटेड ज्वेलर्स एंड मैन्यूफेक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष संजीव कुमार अग्रवाल ने बताया कि बदले माहौल में सोने की कमी भी शुरू हो गई है। बड़ी मात्रा में सोने की खरीद से बाजार में अस्थिरता का माहौल बन गया है। बड़ी संख्या में लोगों ने सोने की खरीद के लिए एडवांस बुकिंग कराई है।
बाजार में बंद होने लगा गुलाबी नोट का चलन
दो हजार के नोटों को बैंकों में सितंबर तक जमा किया जाएगा। इतना समय होने के बावजूद बाजार में  अभी से गुलाबी नोटों का चलन बंद होने लगा है। चिकित्सक से लेकर परचून, फल और सब्जी विक्रेता तक यह नोट लेने से इन्कार कर रहे हैं। सदर क्षेत्र के परचून व्यापारी गौरव ने बताया कि छोटे व्यापारी तो यह नोट ले ही नहीं रहे हैं। ज्यादा कीमत का सामान न हो तो बड़े व्यापारी भी आनाकानी कर रहे हैं।
कल से सभी बैंकों में बदले जाएंगे दो हजार के नोट
कल यानी मंगलवार से सभी बैंकों में दो हजार रुपये के नोट बदले जाएंगे। वह लोग भी नोट बदल सकते हैं, जिनके बैंक में खाते नहीं हंै। शहर की किसी भी बैंक शाखा में इन्हें अपने आधार कार्ड की कॉपी दिखानी होगी।
बैंक तय सीमा तक (20 हजार रुपये) नोट लेंगे और उनके बदले में धनराशि देंगे। बैंकों ने इसकी तैयारी कर ली है। शहर में केनरा बैंक की दो चेस्ट के साथ सभी बैंकों की चेस्ट हैं। बैंक अधिकारियों का मानना है कि कैश को लेकर कोई समस्या नहीं आएगी।