July 13, 2024

जलजीवन मिशन में मिशन मोड़ में कार्य करे अधिकारी: डीएम अनुराधा पाल

बागेश्वर । जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने जल जीवन मिशन के कार्यो की समीक्षा करते हुए कहा कि आगामी मार्च में योजना का समय समाप्त होने वाला है, इसलिए कार्यदायी संस्थाएं मिशन मोड में कार्य करते हुए योजनाएं पूर्ण करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि योजना कार्य समय से पूर्ण न होने पर संबंधित अभियंता की जिम्मेदारी तय की जाएगी।

जिलाधिकारी ने विकास भवन सभागार में जल जीवन मिशन के अभियंताओं के साथ ही ठेकेदारों की बैठक लेते हुए कहा कि सभी ठेकेदार व अभियंता कार्यो में श्रमिकों की संख्या का बढाते हुए दिसंबर तक अधिक से अधिक योजना कार्यो को पूर्ण करें, साथ ही उन्होंने महावार पूर्ण होने  वाले कार्यो की सूची भी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। उन्होंनेयोजनाओं के पानी की टेस्टिंग निर्धारित लैब से कराने, योजना पूर्ण होने पर तुरंत थर्ड पार्टी से निरीक्षण कराते हुए एमबी कर शीघ्र भुगतान कराने के भी निर्देश अभियंताओं को दिए। 

बताते चले कि जल जीवन मिशन में जल निगम द्वारा 140 योजनाओं के सापेक्ष 137 में निविदाएं करते हुए 61 कार्य पूर्ण कर लिए गए है, जबकि 3 कार्यो पर निविदाएं आमंत्रित की गयी है  साथ ही 13 योजना के कार्य अभी प्रारंभ नहीं किए गए है तथा शेष पर कार्य प्रगति पर है। इसी तरह जल संस्थान द्वारा 168 पेयजल योजना के कार्य किए जा रहे है, जिसमें से 45 कार्य पूर्ण कर लिए गए है, 10 कार्य माह के अंत तक कर लिए जाएंगे तथा 27 कार्य अक्टूबर माह तक पूर्ण कर लिए जाएंगे तथा 30 योजना कार्य माह नवंबर तक पूर्ण कर लिए जाएंगे, इस तरह सभी योजना कार्य माह फरवरी, 2024 तक पूर्ण कर लिए जाएंगे। वहीं सिंचार्इ विभाग द्वारा 112 योजना कार्य किए जाने है, जिसमें से 26 कार्य पूर्ण, 75 कार्य प्रगति पर व 11 पर कार्य प्रारंभ नहीं किया गया है। अधि0अभि0 सिंचार्इ ने बताया कि 12 कार्य सिंतबर के अंत तक, 23 कार्य अक्टूबर, 9 कार्य नवंबर तथा 32 कार्य दिसंबर तक पूर्ण कर लिए जाएंगे, शेष कार्यो को शीघ्र प्रारंभ कर गति लाते हुए पूर्ण किए जाएंगे।
मुख्य विकास अधिकारी आरसी तिवारी ने कहा कि जल जीवन मिशन की सभी योजनाओं को तय सीमा के भीतर पूर्ण किए जाने है, इसलिए सभी संबंधित अभियंता, ठेकेदार योजना कार्यो में श्रमिकों की बढोत्तरी करते हुए कार्यो में गति लाकर पूर्ण करें, जो कार्य अभी तक किसी कारण प्रारंभ नहीं किए गए है, उनमें कार्य प्रारंभ करना सुनिश्चित करें, तथा कार्य करने में कोर्इ समस्या आने पर अनिवार्य रूप से अवगत कराने को कहा, ताकि उसका शीघ्रता से समाधान किया जा सके। 

बैठक में अधि.अभि. जल संस्थान सीएस देवडी, जल निगम वीके रवि, सिंचार्इ एमएस बिष्ट सहित सहायक अभियंता, कनिष्ठ अभियंता व ठेकेदार मौजूद थे।