February 29, 2024

डीएम ने किया बैजनाथ अस्पताल का औचक निरीक्षण, बाहर से दवा न लिखे डॉक्टर

बागेश्वर गरुड़ । जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने सामुदायिक स्वास्थ केंद्र बैजनाथ का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि चिकित्सालय में आने वाले मरीजों व तीमारदारों को हर सुविधा मिले तथा किसी भी मरीज को बाहर से दवाइयां खरीदने व रक्त परीक्षण के लिए मजबूर न करें। उन्होंने चिकित्सालय की सफाई व्यवस्था दुरस्त रखने के निर्देश दिए। साथ ही मरीजों से मर्यादित व्यवहार करने को कहा। चिकित्सालय में पर्याप्त पानी, बिजली सहित अन्य मूलभूत व्यवस्था सुचारू रखने के निर्देश दिए।

 बुधवार को जिलाधिकारी अुनराधा पाल ने सामुदायिक स्वास्थ केंद्र का निरीक्षण किया। उन्होंने चिकित्सालय में चिकित्सकों के कक्षों व चिकित्सालय परिसर के निरीक्षण के दौरान कहा कि चिकित्सालय में मरीजों को हरसंभव सुविधा मिले साथ ही परिसर व शौचालयों की सफाई व्यवस्था सुचारू हो। उन्होंने प्रभारी चिकित्साधिकारी से चिकित्सालय में तैनात चिकित्सकों व अन्य स्टाफ की जानकारी ली। इसके बाद जिलाधिकारी ने चिकित्सालय के दवा वितरण कक्ष का निरीक्षण किया तथा वहां उपलब्ध दवाइयों की जानकारी ली। 

जिलाधिकारी ने चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि अस्पताल में आवश्यक दवाइयां उपलब्ध हो, किसी भी कीमत में मरीज को बाहर की दवाइयां न लिखी जाय तथा मरीज को रक्त परीक्षण के लिए बाहर न भेजा जाय। उन्होंने चिकित्सालय स्थित विभिन्न वार्डो का निरीक्षण किया, कहा कि इमरजेंसी में प्रयोग आने वाली दवाइयों की उपलब्धता हर समय सुनिश्चित की जाय व वहां पर डयूटी हर वक्त चाक चौबंद रहे तथा मरीज व तीमारदारों से सभ्यता से पेश आने को कहा। इसके बाद उन्होंने आपरेशन थियेटर, एक्सरे रूम, अल्टासाउंड रूम तथा वहां की सुविधाओं उपलब्धता की जानकारी ली। उन्होंने विभिन्न वार्डों का निरीक्षण करके मरीजों से वार्ता कर जानकारी प्राप्त की। भ्रमण के दौरान उन्होंने आयुष्मान डेस्क का निरीक्षण किया तथा वहां की जानकारी ली। जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया कि मरीज के साथ लापरवाही व दवा खरीदने तथा रक्त परीक्षण बाहर से कराना बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। निरीक्षण के दौरान उन्होंने चिकित्साधिकारी को सीएसआर के तहत आवश्यक उपकरण खरीदने व मीटिंग हॉल का मरम्मत कार्य के लिए प्रस्ताव प्रेषित करने के निर्देश देते हुए फिजियोथेरेपी यूनिट स्थापना करने, ओटी सुचारू करने व शौचालय के पास खाली पडी जमीन को उपयोग में लाने को प्लांन तैयार करने के निर्देश मौके पर दिए। जिलाधिकारी ने कूडे का उचित प्रबंधन के साथ ही चिकित्सालय परिसर में निष्प्रयोज्य वस्तुओं का निस्तारण करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने चिकित्सालय में उपलब्ध सेवाओं, दवाइयों की जानकारी ली कहा कि किसी प्रकार की समस्या व कमी होने पर जिला प्रशासन द्वारा चिकित्सालय को पूर्ण सहायता प्रदान की जाएगी।

निरीक्षण  के दौरान उपजिलाधिकारी राजकुमार पांडे, प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ0 राजेश गुज्याल, तहसीलदार तितिक्षा जोशी आदि मौजूद थे।