July 24, 2024

आखिरी चरण में आठ राज्यों की 57 सीटों पर मतदान, पीएम मोदी समेत कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर


नईदिल्ली । लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण के चुनाव प्रचार का आज आखिरी दिन है. आज शाम 6 बजे अंतिम चरण के चुनाव प्रचार का शोर शांत हो जाएगा. आखिरी चरण के लिए मतदान शनिवार यानी 1 जून को होगा. इस चरण में आठ राज्यों की 57 लोकसभा सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे. इस चरण में पीएम मोदी की वाराणसी लोकसभा सीट भी शामिल है. पीएम मोदी के अलावा इस चरण में कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर है.
बता दें कि इस बार लोकसभा चुनाव सात चरणों में कराया गया है. पहले चरण के लिए मतदान 19 अप्रैल और दूसरे चरण के लिए 26 अप्रैल को वोटिंग हुई थी. जबकि तीसरे चरण के लिए 7 मई और चौथे चरण के लिए मतदान 13 मई को हुआ. वहीं पांचवें चरण के लिए 20 मई को वोटिंग हुई थी. जबकि छठे चरण के लिए 25 मई को वोट डाले गए थे.
लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में 8 राज्यों की 57 सीटों पर वोट डाले जाएंगे. इस चरण में उत्तर प्रदेश की 13, बिहार की 8, ओडिशा की 6, झारखंड की 3, हिमाचल प्रदेश की 4, पश्चिम बंगाल की 9 और चंडीगढ़ की एक सीट के लिए वोट डाले जाएंगे. इसी के साथ लोकसभा चुनाव 2024 का मतदान समाप्त हो जाएगा. वहीं वोटों की गिनती 4 जून को होगी और इसी दिन नतीजे भी जारी कर दिए जाएंगे.
लोकसभा चुनाव के सातवें चरण में वाराणसी में भी वोटिंग होगी. इस सीट से पीएम मोदी लगातार तीसरी बार चुनाव लड़ रहे हैं. वहीं पश्चिम बंगाल की डायमंड हार्बर सीट भी इस चरण में बेहद खास है. क्योंकि इस सीट पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी चुनावी मैदान में हैं. जबकि पाटलिपुत्र लोकसभा सीट के लिए भी इस चरण में मतदान होगा. इस सीट से लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती चुनावी मैदान में हैं.

लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में उत्तर प्रदेश की जिन 13 सीटों पर चुनाव होना है उनमें 65 विधानसभा आती हैं. इन 65 विधानसभा सीटों में से 43 पर बीजेपी का कब्जा है. जबकि 11 पर सपा और दो पर अपना दल (एस), वहीं 4 पर सुभासपा और 03 पर निषाद पार्टी के विधायक हैं. अगर एनडीए के घटक दलों को जोड़ लिया जाए तो इन 65 विधानसभा सीटों में से 52 विधानसभाओं पर एनडीए ने जीत दर्ज की है. इसलिए बीजेपी के लिए यूपी में आखिरी चरण का मतदान काफी अहम है.
इसके अलावा पंजाब के लिए भी लोकसभा चुनाव का आखिरी चरण बेहद खास है. क्योंकि 1 जून को राज्य की 13 सीटों पर मतदान होना है. 2019 में इनमें आठ सीटों पर कांग्रेस ने जीत हासिल की थी, जबकि आम आदमी पार्टी ने एक और बीजेपी ने दो सीटों पर जीत हासिल की थी. जबकि 2 सीटों पर शिरोमणि अकालीदल के उम्मीदवार विजयी हुए थे. आम आदमी पार्टी के नेता डा. अरुण धवन का कहना है कि इस बार लड़ाई तगड़ी है. आम आदमी पार्टी 08 सीट जीत सकती है. कांग्रेस 03 सीट पर अच्छा लड़ रही है. वहीं बीजेपी तीन सीट पर कांटे के मुकाबले में है.
लोकसभा चुनाव के सातवें और आखिरी चरण में जिन 57 सीटों पर चुनाव हो रहा है, 2019 के चुनाव में उनमें से 25 सीटों पर बीजेपी ने जीत हासिल की थी. वहीं बिहार और यूपी की 05 सीटों पर बीजेपी के सहयोगी दलों ने जीत हासिल की थी. आखिरी चरण में चंडीगढ़ की एक सीट, हिमाचल की 04, पश्चिम बंगाल की 09, झारखंड की 03 और उड़ीसा की 06 सीट लोकसभा सीटों पर मतदान होगा.